माँ चंद्रघंटा – Maa Chandraghanta Story in Hindi

माँ दुर्गा की 9 शक्तियों की तीसरी स्वरूपा भगवती चंद्रघंटा की पूजा नवरात्र के तीसरे दिन की जाती है. माता के माथे पर घंटे आकार का अर्धचन्द्र है, जिस कारण इन्हें चन्द्रघंटा कहा जाता है. इनका रूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है. माता का शरीर स्वर्ण के समान उज्जवल है. इनका वाहन सिंह है और इनके… Continue reading माँ चंद्रघंटा – Maa Chandraghanta Story in Hindi

Featured post

Published
Categorized as Navratri

Durga Saptashati mantras

Devi Mantras or shloka are known as Siddhi Mantra (the one with perfection). Each and every mantra is full of energy and power of Devi. Mantras of Devi, when chanted with genuine devotion, give positive results. These mantras ward off all troubles & blesses with success. All mantras are disclosed by the Almighty, through the Intelligence, experience of the divinely illuminated sages.

Featured post

Published
Categorized as Navratri

Maa Shailputri

The first form of mother Durga among the nine is Shailputri. She has a half moon in her forehead; she is mounted on the bullock and holds a lance in her hand. She is known as Shailputri, because she has incarnated from Himalaya, the Emperor of mountains. Mounting a bullock the mother has a lance in… Continue reading Maa Shailputri

माँ शैलपुत्री

भगवती माँ दुर्गा अपने पहले स्वरुप में शैलपुत्री के नाम से जानी जाती हैं ! पर्वतराज हिमालय के यहाँ पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका शैलपुत्री नाम पड़ा था! वृषभ – स्थिता इन माता जी के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल पुष्प सुशोभित हैं ! यही नव दुर्गों… Continue reading माँ शैलपुत्री

Featured post

Published
Categorized as Navratri

Udupi connection to Mahabharata

There is an interesting story related to Udupi which dates back to Mahabharata. It also explains why people of Udupi are good in catering business.

श्री कृष्ण और गोवर्धन पर्वत

देवराज इंद्र ब्रज के लोगों से बहुत क्रोधित हुए क्योंकि लोग भगवान कृष्ण की बातों को सुनकर गोवर्धन पर्वत की पूजा कर रहे थे और इंद्र देव की पूजा नहीं कर रहे थे। देवराज इंद्र ने क्रोधित होकर उन्हें दंडित करने के लिए घनघोर वर्षा करने के लिए बादलों को भेजा जिसके कारण पूरे वृंदावन में बाढ़… Continue reading श्री कृष्ण और गोवर्धन पर्वत