Navratri

सिद्धिदात्री माता कथा

मार्कण्डेय पुराण के अनुसार अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व- ये आठ सिद्धियां होती हैं। ब्रह्मवैवर्तपुराण के श्रीकृष्ण जन्म खंड में यह संख्या अठारह बताई गई है। इनके नाम इस प्रकार हैं – 1. अणिमा 2. लघिमा 3. प्राप्ति 4. प्राकाम्य 5. महिमा 6. ईशित्व,वाशित्व 7. सर्वकामावसायिता 8. सर्वज्ञत्व 9. दूरश्रवण 10. …

सिद्धिदात्री माता कथा Read More »

माँ बगलामुखी

माँ बगलामुखी स्तंभन शक्ति की अधिष्ठात्री हैं अर्थात यह अपने भक्तों के भय को दूर करके शत्रुओं और उनके बुरी शक्तियों का नाश करती हैं

Durga Saptashati mantras

Devi Mantras or shloka are known as Siddhi Mantra (the one with perfection). Each and every mantra is full of energy and power of Devi. Mantras of Devi, when chanted with genuine devotion, give positive results. These mantras ward off all troubles & blesses with success. All mantras are disclosed by the Almighty, through the Intelligence, experience of the divinely illuminated sages.

Navratri legends

Durga Puja or Navratri is an integral part of the Hindu culture in India. Celebrated in between September to November throughout the country, this Puja is considered to be one of the most complex and difficult puja out of all the Hindu ceremonies. It is a nine days long affair in which the Goddess of …

Navratri legends Read More »

Shailputri - Durga goddess first form - Navaratri

माँ शैलपुत्री

भगवती माँ दुर्गा अपने पहले स्वरुप में शैलपुत्री के नाम से जानी जाती हैं ! पर्वतराज हिमालय के यहाँ पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका शैलपुत्री नाम पड़ा था! वृषभ – स्थिता इन माता जी के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल पुष्प सुशोभित हैं ! यही नव दुर्गों …

माँ शैलपुत्री Read More »

माँ कूष्मांडा

भगवती माँ दुर्गा जी के चौथे स्वरुप का नाम कूष्मांडा है। देवी कूष्माण्डा अपनी मन्द मुस्कान से अण्ड अर्थात ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण इन्हें कूष्माण्डा देवी के नाम से जाना जाता है। मां कूष्मांडा वही हैं जो पूरे ब्रह्मांड को खुद निंयत्रित करती हैं। यह तब से हैं जब पूरी द‍ुनिया पर अंधकार का …

माँ कूष्मांडा Read More »