Monthly Archives: September 2015

Lord Balaji

Balaji Temple and the story of marriage of Gods

Balaji Temple at Tirumala hills

Balaji temple is one of the well known temples of India. Unlike some of the other temples, this inspires awe and grandeur and sometimes known as the richest temple of India. This temple is situated on Tirumala hills.

The main temple of Tirumala Tirupati lies on the seventh hill called Venkatadri, which is why this holy Tirumala Temple is also called “The Temple Of Seven Hills”. Lord Sri Venkateswara,also known as Balaji and Govinda,is the presiding deity of this holy temple.

Today,if we go by the available statistics,about thirty to forty million pilgrims, from all over the world,visit this holy temple every year making Lord Sri Venkateswara the most worshiped Hindu God in the world and Tirumala the most visited place of worship.

Legends behind Balaji Temple

There are numeros legends associated with the manifestation of the Lord in Tirumala. According to one legend, the temple has a murti (deity) of Lord Venkateswara, which it is believed shall remain here for the entire duration of the present Kali yuga. There is an interesting story related to Lord Venkateshwara and Balaji Temple.

Lord Balaji

Lord Balaji

 

Why married couple visit this temple

Tirupati, the Home of Lord Venkateswara has long been the destination of many a newly wed couple. The temple is believed to have a particular signification for newly weds as it is believed to be place where Lord Venkateswara married Padmavathy.

Goddess Laxmi leaves Lord Vishnu

An interesting tale forms the backdrop to the temple. Quarrels are not unknown between happily wed couples and the divine ones are no different. Following a spat with Lord Vishnu, Goddess Lakshmi left her heavenly abode and came down to the earth. Here she stayed in a hermitage on the banks of the Godavari.

Lord Brahma and Lord Shiva tried to help

Missing his beloved, Lord Vishnu went to search of her and this search brought him to earth. Ultimately his quest brought him to the Seshadri hills where he stopped to rest in an anthill. Upset by the separation between Vishnu and Lakshmi, Lord Brahma and Lord Shiva decided to intervene. Taking the guise of a cow and a calf they went to live at the place of a Chola king.

The cowherd took them everyday to graze in the Seshadri hills where the cow would secretly visit the anthill where Vishnu was living without sustenance. Emptying her milk, the cow would then return to the palace.

The cowherd was angry as the cow never yielded any milk to him. He watched movements carefully and his explorations brought him to the anthill. In trying to ascertain what lay beneath the anthill, he struck it with an axe thus injuring Vishnu on the forehead.

Tirupati temple

Tirupati temple

Lord Vishnu is injured

In search of herbs to heal the wound, Lord Vishnu wandered far and wide. His wanderings brought him to the Shrine of Sri Varahaswamy – the third incarnation of Vishnu as a boar. Here, he sought permission to stay, but Varahaswamy wanted a rental to be paid; Vishnu pleaded that he was poor now and needed rent free accommodation. To reciprocate this gesture of goodwill, he said he would tell his devotees to worship Varahaswamy before they worshipped him. The contract sealed, Vishnu built a hermitage and lived there waited on by a devotee, Vakuladevi who looked after him like a mother. In a nearby kingdom ruled King Akasha Rajan.

Devi Padmavathy

Childless for many years, he had one day found a beautiful baby girl sleeping on a golden lotus in a golden box while ploughing the fields. He had named her Padmavathy. A beautiful and accomplished girl, Padmavathy had been granted a boon in her earlier birth that she would be married to Lord Vishnu. One day, Vishnu, who had been renamed Srinivasan by his devotee and foster mother Vakuladevi, went hunting in the forest. His wandering led him to a garden with a pond. Srinivasan was thirsty and tired. After drinking from the pond, he rested in the shade of a tree. Soon the soft singing of Padmavathy who was dancing in the garden with her companions roused him. He was stunned by her beauty and drawn to her. She too seemed to be drawn to him, but the angry attendants thinking him a mere hunter drove him away.

Depressed and unhappy he poured his troubles out to Vakuladevi. Now for the first time, he revealed to her who he really was and also told her the story of Padmavathy. In the meanwhile, Padmavathy was dreaming of Srinivasa. She had no idea who he really was and knew that her parents would never let her be married to a hunter.

Srinivasa urged Vakuladevi to approach Padmavathy’s father, Akasha Raja, with the marriage proposal. In the meanwhile he disguised himself as a soothsayer and went to the court of Akasha Raja. There, he assured Padmavathy that the hunter she had fallen in love with was no ordinary man but the Lord and told her that the worries would soon be over. Padmavathy too poured out her heart to her parents. At about the same time, Vakuladevi arrived with the marriage proposal. After consulting with the sages Akasha Raja accepted the proposal and invited Srinivasa to attend the wedding on Friday, the 10th day of Vaikasi.

Srinivasa now had arrangements to make. He sought a loan of one crore and 14 lakh coins of gold from Kubera and had Viswakarma, the divine architect create heavenly surroundings in the Seshadri hills.

The day of the wedding arrived, Lord Srinivasa was bathed in holy waters and dressed in jeweled ornaments befitting a royal bride groom. Then he set off in a procession for the court of Akasha Raja. There Padmavathy waited radiant in her beauty. Srinivasa was hailed with an arthi and led to the marriage hall. There the queen and King washed his feet while sage Vasishta chanted the Vedic mantras. Soon the wedding was over and it was time for Padmavathy to take leave of her parents.

Together, they lived for all eternity while Goddess Lakshmi, understanding the commitments of Lord Vishnu, chose to live in his heart forever.

Kalyan Utsav celebrated union of Lord Vishnu and Goddess Laxmi

Tirupati, today, stands as a special place, commemorating the marriage between the two. Everyday, a kalyana utsavam celebrates the divine union in a celebration that stretches to eternity. Even today, during the Brahmotsavam at the temple, turmeric, kumkum and a sari are sent from the temple to Tiruchanur, the abode of Padmavathy. In fact Tirupati is rarely visited without paying a visit to Tiruchanur.

In the light of this background, it has become the favored destination of many newly wed couples who pray for a happy wedding – a wedding like that of Srinivasa and Padmavathy.

21 incarnations of Lord Vishnu – Part 3

This is the final article of 21 incarnations of Lord Vishnu. Here, we see lot of incarnations from Dashavatara are mentioned here as well. Notable addition is Vyasa avatara, who is also known as Krishna Dwaipayana.

15. The dwarf Incarnation – Vaman Avtar

Vishnu incarnated as a dwarf brahman to restore the authority of Indra over the heaven, as it has been taken by MahaBali asura king. King Mahabali was a generous man He believed that he can help any one and can donate whatever they ask. The dwarf came to Bali and desired that it might be granted as much of land as could be encompassed in three of its steps. Mahabali consented against the warning of his Guru. Vamana then revealed his identity and enlarged to gigantic proportions to stride over the three worlds. He stepped from heaven to earth with the first step, from earth to the netherworld with the second. King Mahabali, unable to fulfil his promise, offered his head for the third. Vamana then placed his foot and gave the king immortality for his humility.

16. The Ram with axe incarnation – Parashuram Incarnation

When kshatriya kings became ruthless and started exploiting their subjects, Lord Vishnu took  sixteenth  incarnation as Parshuram. Parashurama destroyed all the kshatriyas in the world twenty-one times, so that good might once again prevail. He received an axe after undertaking terrible penance to please Lord Shiva, who in turn taught him the martial arts.

17. Vyasa Avtar

Lord Vishnu incarnated himself as a sage  Krishna Dvaipayana. He was the son of Parashara and Satyavati He recompiled the sacred texts of the Vedas so that they might become more easily understandable to men.  It was thus that there came to be four Vedas. He came to be known as Vedavyasa because he had divided the Vedas. He also wrote eighteen Mahapurans and Mahabharat.

Ved Vyasa and Lord Ganesha

Ved Vyasa and Lord Ganesha

18. The Ram Incarnation

Ram is considered as 18 incarnation of Lord Vishnu. Ram is considered as one of the most important incarnations. Rama is referred to within Hinduism as Maryada Purushottama  which literally means Perfect Man or Lord of Self-Control or Lord of Virtue. Rama’s life and journey is one of adherence to dharma despite harsh tests and obstacles and many pains of life and time. He is pictured as the ideal man and the perfect human.

Rama and Ravana - The Ramayana

Rama and Ravana – The Ramayana

19. Krishna and Balram Incarnation

Lord Vishnu incarnated as  yadavas named Balram and Krishna. Balram killed Pralambasura  and many more demons. Lord Krishna on other hand fought against the exploitation right from his childhood and killed many demons like Kalayavan, Kansa, Jarasandh etc. He gave the divine knowledge of Gita to Arjun during the battle of Kurukshetra.

20. The Buddha Incarnation

Buddha was twentieth incarnation of Lord Vishnu, He was the originator of Buddhism. In the Kaliyuga the demons were completely subjugated by the deities. Shukracharya the teacher of the demons instigated the demons to perform Yagya so that they could regain power and authority. Fearing this the deities prayed to Lord Vishnu for help. Lord Vishnu took incarnation as Buddha and dissuaded the demons from performing Yagya as it involves violence the demons stopped performing Yagyas.

21. The Kalki Incarnation

This Incarnation is still to take place. At the end of Kalyug, Kalki avtar of Lord Vishnu shall take place in the house of brahmin Vishnuyasha. He would re-establish the superiority of Virtuosity and religiousness.

Lord Shiva as Mahakal

Jyotirlinga Katha in Hindi

Lord Shiva

Lord Shiva

भगवान शिव की भक्ति का महीना सावन शुरू हो चुका है। शिवमहापुराण के अनुसार एकमात्र भगवान शिव ही ऐसे देवता हैं, जो निष्कल व सकल दोनों हैं। यही कारण है कि एकमात्र शिव का पूजन लिंग व मूर्ति दोनों रूपों में किया जाता है। भारत में 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंग हैं। इन सभी का अपना महत्व व महिमा है।

ऐसी मान्यता भी है कि सावन के महीने में यदि भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों के दर्शन किए जाएं तो जन्म-जन्म के कष्ट दूर हो जाते हैं। यही कारण है कि सावन के महीने में भारत के प्रमुख 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। आज हम आपको बता रहे हैं इन 12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व व महिमा-“”

1- सोमनाथ

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग भारत का ही नहीं अपितु इस पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यह मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है, कि जब चंद्रमा को दक्ष प्रजापति ने श्राप दिया था, तब चंद्रमा ने इसी स्थान पर तप कर इस श्राप से मुक्ति पाई थी। ऐसा भी कहा जाता है कि इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं चन्द्र देव ने की थी। विदेशी आक्रमणों के कारण यह 17 बार नष्ट हो चुका है। हर बार यह बिगड़ता और बनता रहा है।

2- मल्लिकार्जुन

यह ज्योतिर्लिंग आन्ध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित है। इस मंदिर का महत्व भगवान शिव के कैलाश पर्वत के समान कहा गया है। अनेक धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पौराणिक महत्व की व्याख्या करते हैं।
कहते हैं कि इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने मात्र से ही व्यक्ति को उसके सभी पापों से मुक्ति मिलती है। एक पौराणिक कथा के अनुसार जहां पर यह ज्योतिर्लिंग है, उस पर्वत पर आकर शिव का पूजन करने से व्यक्ति को अश्वमेध यज्ञ के समान पुण्य फल प्राप्त होते हैं।

3- महाकालेश्वर 

यह ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी कही जाने वाली उज्जैन नगरी में स्थित है। महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की विशेषता है कि ये एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन सुबह की जाने वाली भस्मारती विश्व भर में प्रसिद्ध है। महाकालेश्वर की पूजा विशेष रूप से आयु वृद्धि और आयु पर आए हुए संकट को टालने के लिए की जाती है। उज्जैनवासी मानते हैं कि भगवान महाकालेश्वर ही उनके राजा हैं और वे ही उज्जैन की रक्षा कर रहे हैं।

4- ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध शहर इंदौर के समीप स्थित है। जिस स्थान पर यह ज्योतिर्लिंग स्थित है, उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और पहाड़ी के चारों ओर नदी बहने से यहां ऊं का आकार बनता है। ऊं शब्द की उत्पति ब्रह्मा के मुख से हुई है। इसलिए किसी भी धार्मिक शास्त्र या वेदों का पाठ ऊं के साथ ही किया जाता है। यह ज्योतिर्लिंग औंकार अर्थात ऊं का आकार लिए हुए है, इस कारण इसे ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है।

5- केदारनाथ

केदारनाथ स्थित ज्योतिर्लिंग भी भगवान शिव के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में आता है। यह उत्तराखंड में स्थित है। बाबा केदारनाथ का मंदिर बद्रीनाथ के मार्ग में स्थित है। केदारनाथ समुद्र तल से 3584 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। केदारनाथ का वर्णन स्कन्द पुराण एवं शिव पुराण में भी मिलता है। यह तीर्थ भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। जिस प्रकार कैलाश का महत्व है उसी प्रकार का महत्व शिव जी ने केदार क्षेत्र को भी दिया है।

6- भीमाशंकर

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर के विषय में मान्यता है कि जो भक्त श्रद्धा से इस मंदिर का दर्शन प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद करता है, उसके सात जन्मों के पाप दूर हो जाते हैं तथा उसके लिए स्वर्ग के मार्ग खुल जाते हैं।
Twelve-Jyotirlinga

Twelve-Jyotirlinga

7- काशी विश्वनाथ

विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह उत्तर प्रदेश के काशी नामक स्थान पर स्थित है। काशी सभी धर्म स्थलों में सबसे अधिक महत्व रखती है। इसलिए सभी धर्म स्थलों में काशी का अत्यधिक महत्व कहा गया है। इस स्थान की मान्यता है कि प्रलय आने पर भी यह स्थान बना रहेगा। इसकी रक्षा के लिए भगवान शिव इस स्थान को अपने त्रिशूल पर धारण कर लेंगे और प्रलय के टल जाने पर काशी को उसके स्थान पर पुन: रख देंगे।

8- त्र्यंबकेश्वर

यह ज्योतिर्लिंग गोदावरी नदी के करीब महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले में स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग के सबसे अधिक निकट ब्रह्मागिरि नाम का पर्वत है। इसी पर्वत से गोदावरी नदी शुरू होती है। भगवान शिव का एक नाम त्र्यंबकेश्वर भी है। कहा जाता है कि भगवान शिव को गौतम ऋषि और गोदावरी नदी के आग्रह पर यहां ज्योतिर्लिंग रूप में रहना पड़ा।

9- वैद्यनाथ 

श्री वैद्यनाथ शिवलिंग का समस्त ज्योतिर्लिंगों की गणना में नौवां स्थान बताया गया है। भगवान श्री वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का मन्दिर जिस स्थान पर अवस्थित है, उसे वैद्यनाथ धाम कहा जाता है। यह स्थान झारखंड राज्य (पूर्व में बिहार ) के देवघर जिला में पड़ता है।

10- नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के बाहरी क्षेत्र में द्वारिका स्थान में स्थित है। धर्म शास्त्रों में भगवान शिव नागों के देवता है और नागेश्वर का पूर्ण अर्थ नागों का ईश्वर है। भगवान शिव का एक अन्य नाम नागेश्वर भी है। द्वारका पुरी से भी नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 17 मील की है। इस ज्योतिर्लिंग की महिमा में कहा गया है कि जो व्यक्ति पूर्ण श्रद्धा और विश्वास के साथ यहां दर्शन के लिए आता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

11- रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

यह ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु राज्य के रामनाथपुरं नामक स्थान में स्थित है। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक होने के साथ-साथ यह स्थान हिंदुओं के चार धामों में से एक भी है। इस ज्योतिर्लिंग के विषय में यह मान्यता है कि इसकी स्थापना स्वयं भगवान श्रीराम ने की थी। भगवान राम के द्वारा स्थापित होने के कारण ही इस ज्योतिर्लिंग को भगवान राम का नाम रामेश्वरम दिया गया है।

12- धृष्णेश्वर मन्दिर

घृष्णेश्वर महादेव का प्रसिद्ध मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के समीप दौलताबाद के पास स्थित है। इसे घृसणेश्वर या घुश्मेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। दूर-दूर से लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं और आत्मिक शांति प्राप्त करते हैं। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से यह अंतिम ज्योतिर्लिंग है। बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएं इस मंदिर के समीप स्थित हैं।
Lord Hanumana at Patan Devi

Shri Hanuman Chalisa

श्री हनुमान चालीसा

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारी

बरनौ  रघुबर  बिमल जसु, जो दायकू फल चारि

बुध्दि हीन तनु जानिके सुमिरौ पवन कुमार |

बल बुध्दि विद्या देहु मोंही , हरहु कलेश विकार ||

चोपाई

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर |

जय कपीस तिहुं लोक उजागर ||

राम दूत अतुलित बल धामा |

अंजनी पुत्र पवन सुत नामा ||

महाबीर बिक्रम बजरंगी|

कुमति निवार सुमति के संगी ||

कंचन बरन बिराज सुबेसा |

कानन कुण्डल कुंचित केसा ||

हाथ वज्र औ ध्वजा विराजे|

काँधे मूंज जनेऊ साजे||

संकर सुवन केसरी नंदन |

तेज प्रताप महा जग बंदन||

विद्यावान गुनी अति चातुर |

राम काज करिबे को आतुर ||

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया |

राम लखन सीता मन बसिया ||

सुकसम रूप धरी सियहि दिखावा |

बिकट रूप धरी लंक जरावा ||

भीम रूप धरी असुर संहारे |

रामचंद्र के काज संवारे ||

लाय संजीवनी लखन जियाये |

श्रीरघुवीर हरषि उर लाये ||

रघुपति कीन्हीं बहुत बड़ाई |

तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई ||

सहस बदन तुम्हरो जस गावे |

अस कही श्रीपति कंठ लगावे ||

सनकादिक ब्रह्मादी मुनीसा|

नारद सारद सहित अहीसा ||

जम कुबेर दिगपाल जहा ते|

कबि कोबिद कही सके कहा ते||

तुम उपकार सुग्रीवहीं कीन्हा |

राम मिलाय राज पद दीन्हा ||

तुम्हरो मंत्र विभिषण माना |

लंकेश्वर भए सब जग जाना ||

जुग सहस्र योजन पर भानू |

लील्यो ताहि मधुर फल जाणू ||

प्रभु मुद्रिका मेली मुख माहीं|

जलधि लांघी गए अचरज नाहीं||

दुर्गम काज जगत के जेते |

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ||

राम दुआरे तुम रखवारे |

होत न आग्यां बिनु पैसारे ||

सब सुख लहै तुम्हारी सरना |

तुम रक्षक काहू को डरना ||

आपन तेज सम्हारो आपे |

तीनों लोक हांक ते  काँपे ||

भुत पिशाच निकट नहिं आवे |

महावीर जब नाम सुनावे ||

नासै रोग हरे सब पीरा |

जपत निरंतर हनुमत बीरा ||

संकट से हनुमान छुडावे |

मन क्रम बचन ध्यान जो लावै||

सब पर राम तपस्वी राजा |

तिन के काज सकल तुम साजा ||

और मनोरथ जो कोई लावे |

सोई अमित जीवन फल पावे ||

चारों जुग प्रताप तुम्हारा |

है प्रसिद्ध जगत उजियारा ||

साधु संत के तुम रखवारे |

असुर निकंदन राम दुलारे ||

अष्ट सिद्धि नौनिधि के दाता |

अस बर दीन जानकी माता ||

राम रसायन तुम्हरे पासा |

सदा रहो रघुपति के दासा ||

तुम्हरे भजन राम को पावे |

जनम जनम के दुःख बिस्रावे ||

अंत काल रघुबर पुर जाई |

जहा जनम हरी भक्त कहाई ||

और देवता चित्त न धरई |

हनुमत सेई  सर्व सुख करई||

संकट कटे मिटे सब पीरा |

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा ||

जय जय जय हनुमान गोसाई |

कृपा करहु गुरु देव के नाइ ||

जो सत बार पाठ कर कोई |

छूटही  बंदी महा सुख होई ||

जो यहे पढे हनुमान चालीसा |

होय सिद्धि साखी गौरीसा ||

तुलसीदास सदा हरी चेरा |

कीजै नाथ हृदये मह डेरा ||

दोहा

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूर्ति रूप  |

राम  लखन  सीता  सहित , ह्रुदय बसहु सुर भूप ||

Hanuman-five-mukhi

Hanuman-five-mukhi